मेरा लेख - एक नई पहचान समय सत्ता चीफ एडिटर

बिंदेश कुमार झा की कविता

बिंदेश कुमार झा एक नवीनतम उभरता हुए कविता कार है उनकी कुछ कविता इस पोस्ट में लिखी गई है

Samay Satta Samay Satta
इंडिया, 
 0  23
बिंदेश कुमार झा की कविता
बिंदेश कुमार झा की कविता

अहंकार

आप के लिए चुनी गई खबरें

यह कुछ और खबर भी हमने आपके लिए चुनी है आप इन्हे भी पढ़ें

गगन के हृदय में अंकित सितारा
अपनी यश-गाथा का विस्तार कर रहा,
इतराकर सूरज से बैर किया है
सूर्य की लालिमा मात्र से कहार रहा।

अपनी सुंदर यौवन से पुष्प
भूमि का जो तिरस्कार किया,
एक पवन के झोंके ने उसे
सौ टुकड़ों का आकार दिया।

अपनी तेज धार से जल
भय का जो संचार किया,
बांध बनाकर मनुष्य ने वहां
जल का उसका अधिकार लिया।

अपने ऊंचे कद का पर्वत
गगन को जो ललकार रहा,
धारा ने अपनी करवट से ही
उस पर तीव्र प्रहार किया।

अपनी गौरव हो या योग्यता
का जिसने अहंकार किया,
प्रकृति ने अपने समय में
उसका सदा तिरस्कार किया।

 बिंदेश कुमार झा

-----------------------------------------

तू देख, मेरा कृष्णा आ गया!

दो हाथ भले ना हो मेरा
पर कोटी हाथ वाला खड़ा है,
तू उठा एक शास्त्र अपनी भुजा से
मेरा साहस ही तुझसे बड़ा है।

दो पैर भले ना हो मेरा
कोटी पंख लगे मुझ में,
मैं नील गगन से आऊंगा
कितना साहस है तुझमें।

भले दो शब्द ना बोल सकूं मैं
गीता वाचक मेरे संग है,
उसकी मुरली की धुन के आगे
नाचता हुआ तेरा पतन है।

देख नाचता हुआ सूरज
ब्रह्मांड जिसके मुख में है,
तू कांप उसकी आहट से
खड़ा हो तेरे सम्मुख है।

तू देख, मेरा कृष्णा आ गया!
सुई से पर्वत का हिसाब लेने,
जा लेके आ अपनी सेना,
अपने कर्मों का हिसाब देने।

नाच रहा था तू किसी के
करुणा भरी गीत पर,
अब नाच तू अकेला ही
बांसुरी के संगीत पर।

 बिंदेश कुमार झा

-----------------------------------------

एक प्रार्थना

तुम्हारी आशीष की छाया में
अनंत प्रेम की धारा बहाए,
बस प्रार्थना इतनी सी है
प्रार्थना कामना ना बन जाए।

तुम्हारे चरणों की धूल से
सुशोभित मेरा मस्तक हो,
बस किसी की व्यथा आँसुओं में
नाम ना मेरा अंकित हो।

द्वार तेरे चाहे ना आऊं
दीन द्वार पर मेरी उपस्थित हो,
फूल माला न चढ़ाऊं तुझे
हर गीली आँखें मेरी अतिथि हो।

यदि तूफान के प्रभाव में
दिशा मेरी विपरीत हो,
हाथ पकड़ लेना मेरा तुम
इतनी मधुर जीवन का संगीत हो।

 बिंदेश कुमार झा

----------------------------------------

तुम में और मुझ में कौन है बेहतर?

तुम में और मुझ में कौन है बेहतर  
ऊँची पर्वतों की चोटी  
यह धरती का लघु कण,  
राजकुमार का शयन कक्ष  
या योद्धाओं का रण?  

तुम में और मुझ में कौन है बेहतर?  
पवन की गोद में खेलते पुष्प  
यह तूफान से लड़ता कांटा?  
ऊँची आवाज़ में दहाड़ने वाला मेघ  
या बरसते मेघ का सन्नाटा।

तुम में और मुझ में कौन है बेहतर?  
छोटा सा सुंदर तालाब  
यह ऊँचाई से गिरता झरना,  
यह सिक्कों से भरी नदी?  
या समंदर का गहराई से संघर्ष करना?

 बिंदेश कुमार झा


Samay Satta Subscriber

This user has systemically earned a pro badge on samaysatta.com, indicating their consistent dedication to publishing content regularly. The pro badge signifies their commitment and expertise in creating valuable content for the samaysatta.com community.